Advertise

साहित्‍य सुगंध हिन्दी साहित्य की सेवा का मंच, है, आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर,रचनायें -मेल पते पर प्रेषित करें।
 

इन्टरनेट

2 comments
आज सुचना तन्त्र में इतना विकास हो गया है की मनुष्य इन्टरनेट के माध्यम से समीप आ गया है ! अंग्रेजी के अलावा देश की दूसरी भाषाओँ में भी अपने विचार व्यक्त किये जा सकतें है ! आवश्यकता है इमानदारी से प्रयास करने की ! इन्टरनेट के माध्यम से अपने बोधिक स्तर में भी विकास किया जा सकता है ! हिंदी ब्लोग्स में इतना कार्य हो रहा है की वो सब जानकारी हमारी अभिरुचि को निखार सकती है ! जब इतना सब है तो क्या हम हिंदी के उत्थान के लिए दो कदम आगे नहीं बड़ा सकते ?

2 Responses so far.

  1. sahi baat hai . aap kay vichaar sam saamaik hain .

  2. puri tarah se sahmat hu appki baat se...... par har blogger ke pass apne kaaran hai bloggging karne ke.....koi Hindi ko badhawa dene ke liye kar raha hai......toh koi bas...waqt bitane ke liye......

    aur kuch mere jaise toh blogging paiso ke liye karte hai.....mujhe yeh kahte hua accha toh nahi lagta....

    jaha tak baat hui hindi ki......mujhe lagta hai...zayadatar blogger hindi mein issi liye nahi blog karte ....kyu ki woh bhi.....globalization ka anand lena chahte hai........

Leave a Reply

 
[ साहित्‍य सुगंध पर प्रकाशित रचनाओं की मौलिकता के लिए सम्‍बधित प्रेषक ही उतरदायी होगा। साहित्‍य सुगंध पर प्रक‍ाशित रचनाओं को लेखक और स्रोत का उललेख करते हुए अन्‍यत्र प्रयोग किया जा सकता है । किसी रचना पर आपत्ति हो तो सूचित करें]
stats counter
THANKS FOR YOUR VISIT
साहित्‍य सुगंध © 2011 DheTemplate.com & Main Blogger. Supported by Makeityourring Diamond Engagement Rings

[ENRICHED BY : ADHARSHILA ] [ I ♥ BLOGGER ]