Advertise

साहित्‍य सुगंध हिन्दी साहित्य की सेवा का मंच, है, आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर,रचनायें -मेल पते पर प्रेषित करें।
 

लघुकथा- समस्या

4 comments



गाँव में जाने पर सारी दिनचर्या बदल जाती है। समय से बँधे रहने के सिलसिले में भी पूर्णविरामसा लग जाता है। कोई आपाधापी और कोई तनाव। यहाँ तक कि दुनिया में कहाँ क्या हो रहा है, यह जानने की भी चिन्ता नही सताती। ही समाचारपत्रों को नियम से देखने का चाव रहता है और ही रेडियोटीवी से चिपककर बैठने का।
वैसे भी गाँव के समीप बसअड्डे पर छितराई हुई दुकानों में समाचारपत्र बहुत देर से पहुँचते हैं। तब तक हम जैसे लोगों का पढ़ने का मज़ा ही जाता रहता है जिन्हें अलस्सुबह समाचारपत्र बाँचने की आदत हो।
एक दिन मैं यों ही पूरन की दुकान पर बैठा चाय की चुस्कियाँ ले रहा था कि आने वाली बस से दलीपा राम जी उतरे। वे हमारे गाँव के प्राइमरी स्कूल के शिक्षक हैं। मुझे इल्म था कि इन दिनों वे अपनी पुत्री के लिए किसी योग्यवर की तलाश में हैं। वे मुझे भी अपनी बिरादरी का कोई लड़का शहर में देखने के लिए कह चुके थे।
उन्हें देखते ही मैंने पूछा, ‘‘मास्टर जी, कहाँ से तशरीफ ला रहे हैं ?’’
‘‘
बस पास ही के एक गाँव में गया था।’’
मैं उठकर उनके समीप जा पहुँचा।
‘‘
कोई लड़का मिला ?’’ मैंने पूछा।
‘‘
उसी सिलसिले में तो गया था।’’
’‘
फिर ... बात बनी कोई ?’’
‘‘
वैसे तो सब ठीक है पर.....’’
‘‘
क्या दहेजवहेज का कोई अड़ंगा ?’’
‘‘
नहींनहीं.. ऐसा कुछ नहीं है। लड़का भी ठीक है, सरकारी नौकरी पर है, घरबार भी प्राय: ठीक ही है...’’
‘‘
तो फिर कौनसी समस्या आड़े रही है, मास्टर जी?’’
‘‘
बस, लड़के को नौकरी में ऊपरी कमाई कोई नहीं है। आपको तो पता ही है कि आजकल सरकारी नौकरी में ऊपरी कमाई हो तो.......’’ 


4 Responses so far.

  1. सटीक कटाक्ष...

  2. लड़कीवाले भी कितने 'चूज़ी' हो गए हैं! बेचारा ईमानदार और गलत यानी रिश्वत की आमदनी से विहीन नौकरी में फँस गया युवक अब विवाह की दृष्टि से 'योग्य' नहीं रह गया है। स्तरीय व्यंग्य। बधाई।

  3. उपरी कमाई अब आम परिवारों में भी अपराध नहीं माना जाता है
    विवाह में आर्थिक स्थिती ही प्रमुख हो ग ई है प्रेम विवाह का आधार
    भारत मे नही है अच्छी लघुकथा

Leave a Reply

 
[ साहित्‍य सुगंध पर प्रकाशित रचनाओं की मौलिकता के लिए सम्‍बधित प्रेषक ही उतरदायी होगा। साहित्‍य सुगंध पर प्रक‍ाशित रचनाओं को लेखक और स्रोत का उललेख करते हुए अन्‍यत्र प्रयोग किया जा सकता है । किसी रचना पर आपत्ति हो तो सूचित करें]
stats counter
THANKS FOR YOUR VISIT
साहित्‍य सुगंध © 2011 DheTemplate.com & Main Blogger. Supported by Makeityourring Diamond Engagement Rings

[ENRICHED BY : ADHARSHILA ] [ I ♥ BLOGGER ]