Advertise

साहित्‍य सुगंध हिन्दी साहित्य की सेवा का मंच, है, आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर,रचनायें -मेल पते पर प्रेषित करें।
 

या अल्लाह, इन्सानों को किसी मुफ़्लिस का जिगर दे

2 comments

JAGDISH BALI 
गुज़िश्ता चंद रोज किसी रिश्तेदार की शादी में शरीक होने जाना हुआ ! एक रात गुज़ारने के वास्ते किसी के घर जाना हुआ ! उस श्क्स का तारीक सा मकान था, परिवार खासा बडा है, बामुशिक्ल गुज़ारा होता होगा ! जब सवेरे चलने को हुए तो उस शक्स की बिवी ने मेरी बेगम के बडे से बेग में एक पोटली डाल दी ! हम जिस गाडी में सफ़र कर रहे थे, उस घर की बूढी दादी हमारे साथ हमें छोडने आयी ! जरा सा सफ़र तय करने के बाद दादी मां ने कहा : थोडा रुको, मैं अभी आती हूं !" कुछ मिन्टों बाद वो आयी, हाथ में पतली-२ लकडियों का एक छोटा सा गट्ठा भी था और कहने लगी : " बेटा ये गिलोई है, कई बिमारियों से निज़ात दिलाएगी !" फ़िर हमें खुदाहाफ़िज़ कह कर वो अपने घर लौट गयी ! सफ़र में सोचता रहा पोटली में क्या होगा ! घर पहूंचे, बैग कंधे से उतारा और पोटली टटोली ! राजमहा की दाल थी, दो-तीन वक्त का जुगाड ज़रूर था ! मैं चुप चाप अपने आपको देख रहा था और आंखों से अश्क रवां थे ! हम सब कुछ होते हुए भी वो चीज़ देते हैं जिन्हें हम फ़ालतू कहते हैं और इस मुफ़लिसी में भी वो वो चीज़ दे गया जिसके लिए उस्ने ताउम्र जदोजहद की है ! हम किसी को कपडा भी तब देने की सोचते हैं जब वो हमारे पहनने के काबिल नहीं रहता ! अमूनन अदीब लोग जिन्दगी में जमा-वाहिद, फ़यदा नुकसान की बहुत सोचते हैं लेकिन गरीब की ज़िन्दगी में मोहब्बत और दिल का मकाम बहुत ऊंचा होता है ! वो सीधा जीना जनते हैं और जहां तक शायद अमीर लोगों के दिल का रास्ता नहीं जाता ! सामान तो हम दुकान से खरीद सकते हैं पर मोहब्ब्त और परोपकार तिजारत नहीं जो दुकानों में मिल जाए ! उस राजमहा की दाल में जो प्रेम का स्वाद है वो खरीदी दाल में कहां क्योंकि वो तो तोल-मोल कर ली गयी है ! उस गिलोई में जो दवा है उसका सामी किसी हकीम के पास कहां ! मेरी नम आंखें शायद उस गरीब इन्सान का एहसान न चुका सके पर मैं ये दुआ जरूर करता हूं- या अल्लाह, इन्सानों को किसी मुफ़्लिस का जिगर दे क्योंकि वहां तेरा ठिकाना है ! 

Posted by 


2 Responses so far.

  1. Anonymous says:

    सूुन्‍दर

  2. munshi says:

    अरे यार इतनी बढ़िया उर्दू कहाँ से सीख ली..................... मै तो हैरान परेशान...बदहवास................और न जाने क्या क्या हो गया.............और आखिर में................कायल भी

Leave a Reply

 
[ साहित्‍य सुगंध पर प्रकाशित रचनाओं की मौलिकता के लिए सम्‍बधित प्रेषक ही उतरदायी होगा। साहित्‍य सुगंध पर प्रक‍ाशित रचनाओं को लेखक और स्रोत का उललेख करते हुए अन्‍यत्र प्रयोग किया जा सकता है । किसी रचना पर आपत्ति हो तो सूचित करें]
stats counter
THANKS FOR YOUR VISIT
साहित्‍य सुगंध © 2011 DheTemplate.com & Main Blogger. Supported by Makeityourring Diamond Engagement Rings

[ENRICHED BY : ADHARSHILA ] [ I ♥ BLOGGER ]